Sunday, May 23, 2010

i am sooo happy!!!!!!

well........ i just have no reasons today, no good thoughts even. just a blank unperturbed mind, tht is just so calm today like never before. have no reasons, not at all....n nthng spcl did i vent thru today. nothing,,, a vry boring clumsy sunday i had , bt at the end of the day wen i m sittng now, reclined in my own thoughts, its so much peaceful..so vry soothng....dnt feel lyk doing anythng, just smiling the sense of an unknown joy.
m loving it..!!! ting ting tiding!!! lol

3 comments:

  1. नमस्‍कार,

    राजस्‍थान से नित्‍य-प्रति अनेक चिट्ठे (ब्‍लॉग) लिखे जा रहे हैं। हम जैसे अनेक हैं जो उनको पढ़ना चाहते हैं। खासकर चुनिंदा ताजा प्रविष्ठियों को।
    परंतु दिक्‍कत ये आती है कि एक जगह सभी की सूचना उपलब्‍ध नहीं है। कुछ प्रयास भी इस दिशा में हुए हैं और कुछ चल भी रहे हैं।
    हमने 'राजस्‍थान ब्‍लॉगर्स' मंच के माध्‍यम से एक प्रयास आरम्‍भ किया है। ब्‍लॉग एग्रीगेटर के रूप में। इसमें आपकी ताजा लिखी पोस्‍ट दिखेगी, बशर्ते आपका चिट्ठा इससे जुड़ा है।

    अगर आप अब तक नहीं जुडे़ तो
    http://rajasthanibloggers.feedcluster.com/
    पर क्लिक कीजिए और
    Add my blog
    पर जाते हुए अपने ब्‍लॉग का यूआरएल भरिए।
    आपका ब्‍लॉग 'राजस्‍थान ब्‍लॉगर्स' से शीघ्र जुड़ जाएगा और फिर मेरे जैसे अनेक पाठक आपकी पोस्‍ट तथा आपके ब्‍लॉग तक आसानी से पहुंचेगें।

    कृपया साझा मंच बनाने के इस प्रयास में सहभागिता निभाएं।
    आप भी जुड़ें और राजस्‍थान के अपने दूसरे मित्र ब्‍लॉगर्स को भी इस सामग्री की कॉपी कर मेल करें।
    सूचित करें।

    नित्‍य-प्रति हम एक-दूसरे से जुड़ा रहना चाहते हैं। ब्‍लॉगिंग का विस्‍तार ही हमारा ध्‍येय हैं।

    सुझाव-सलाह आमंत्रित है।

    सादर।

    दुलाराम सहारण
    चूरू-राजस्‍थान
    www.dularam.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. hey..nice ..such self satisfaction..unknown joys..not only cheer u up..bt makes d readers happy as well..may ur happiness stay long..

    ReplyDelete
  3. u are right.
    generally this condition occurs with me when i have been from a loooong time of many confusing states and then one day passes without any further complications...
    i remembered my that feeling after reading this one. :)

    ReplyDelete